RAJESH _ REPORTER

अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल अब तो हाथों में कोई तेज कटारी रखिये

169 Posts

347 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2623 postid : 329

घुस लेना जहा जन्मसिद्ध अधिकार समझा जाता है ?

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इन दिनों बिहार के विकास मॉडल की चर्चा पुरे देश में बड़े जोर शोर से चल रही है की कैसे बिहार जिसे जंगल प्रदेश समझा जाता था आज तेजी से विकास की राह में अग्रसर है चाहे वो कृषि के क्षेत्र में हो सकल घरेलू उत्पाद के क्षेत्र में हो या फिर शिक्षा या अपराध में अकुश लगाने के क्षेत्र में लेकिन हमने या मीडिया ने कभी इस चर्चा पर बहस छेड़ना उचित नहीं समझा की विकाश के साथ साथ बिहार में जिस ढंग से नितीश बाबु के राज में अफसर साही बढ़ी सायद ही ऐसी अफसर साही कभी भी किसी राज्य में पनपी होगी .हलाकि नितीश बाबु ने अथक प्रयाश किया की अफसरों की कार्य प्रणाली में सुधार आये लेकिन उन्हें इतनी छुट दे दी की आज बिहार के अफसर मतवाले हाथी की तरह बर्ताव करने लगे है .बिहार में दसको बाद पंचायत चुनाव हुए जन प्रतिनिधि चुने गए लेकिन अधिकारिओ के सामने इन जन प्रतिनिधिओ की हालत दुम हिलाने वाले पामेलियन कुत्ते की तरह है .विधायक तक को ये अधिकारी हिन् दृष्टि से देखते है हलाकि बिहार के विधायको की नितीश बाबु कितना सुनते है वो भी जगजाहिर है .सुचना का अधिकार कानून बिहार में अंतिम साशे ले रहा है .कुछ दिनों पूर्व प्रेस काउन्सिल के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू साहब का एक बयां आया था सायद आप को याद होगा की बिहार की मीडिया को नितीश बाबु ने गुलाम बना कर रखा है बड़ा हंगामा हुआ था लेकिन उनका बयान पूरी तरह सत्य था बिहार से प्रकाशित होने वाली प्रिंट मीडिया में छपी खबरों को आप पढ़े कही भी आप को समस्या मूलक ,सरकार विरोधी खबरे नहीं मिलेगी मिलेगी तो सिर्फ योजनो से सम्बंधित खबरे या अपराध से जुडी खबरे ये तो चर्चा हुई बिहार के विकास मॉडल की लेकिन लालू राबड़ी राज्य की जिस तानाशाही रवये से परेसान होकर आम बिहारी ने नितीश कुमार को सत्ता की कुर्शी तक पहुचाया वो भी ऐतिहशिक बहुमत के साथ आज वही बिहार की जनता त्राहिमाम कर रही है अधिकारिओ की घुस संस्कृति से जी हां आज बिहार में कोई काम करवाना हो बिना चढ़ावे के नहीं होगा चाहे बिजली का कनेक्सन लेना हो ,चाहे जन्म प्रमाण पत्र बनवाना हो या फिर मृत्यु प्रमाण पत्र या अन्य कोई काम चाहे किसी भी कार्यालय में चले जाये बिना चढ़ावा कोई काम नहीं होने वाला सत्ता समहालने की कुछ दिनों बाद ही नितीश जी ने घुस खोरो को पकड़ने के लिए जोर शोर से अभियान चलाया था और निगरानी का गठन तक किया गया जिससे जनता में उम्मीद जगी थी लेकिन जब यहाँ भी जिले के अधिकारिओ को ही टीम में सामिल किया गया अब आप ही बताये कोई अपने मातहत काम करने वाले को दबोचेगा जब उस तक भी हिस्सा पहुच रहा हो जैसे सय्या भये कोतवाल तो अब डर काहे का वाली कहावत चरितार्थ कर रहे हो हलाकि प्रदेश निगरानी बिभाग ने कई स्थानों पर बढ़िया काम किया लेकिन जिला निगरानी बिभाग द्वारा किये गए कोई कार्य आज तक जमीन पर नहीं दीखता ऐसे में जहा घुस लेना जन्म सिद्ध अधिकार समझा जाता हो उस राज्य के विकाश की चर्चा पूरी तरह बेमानी ही साबित होगी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran