RAJESH _ REPORTER

अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल अब तो हाथों में कोई तेज कटारी रखिये

170 Posts

347 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2623 postid : 355

करे कोई भरे कोई ?जागरण ने किया बदनाम

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दिल्ली में ५ वर्षीया गुडिया के साथ हुए दुराचार के बाद कई दिनों से पूरा देश उबाल पर है देश के कई स्थानों पर लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे है इस घटना की जितनी निंदा की जाये कम है ऐसे कुकृत करने वालो को सख्त से सख्त सजा मिलनी ही चाहिए और में भी फासी की मांग करता हु इसमें कोई दो राय नहीं है पूरा देश आज गुडिया के साथ खड़ा है जैसे दामिनी के साथ खड़ा था लेकिन इन सब के बीच एक खबर यह भी है की पूर्व की भाति इस बार भी गुडिया के दरिन्दे बिहार के निकले एक आरोपी मनोज कुमार साह जहा बिहार के मुजफ्फरपुर जिले का रहने वाला है वही दूसरा आरोपी प्रदीप दरभंगा जिले का जैसा की दामिनी के आरोपी राम सिंह भी बिहार का ही रहने वाला था लेकिन पुरे मामले को आज बिहार की छबी के साथ जोड़ कर देखा जाना उचित प्रतीत नहीं होता. जागरण जैसे प्रतिष्ठित अख़बार में घटना के बाद खबर छापी गई की जिसका टैग है “अब दिल्ली में जन्म लेना बन गया सजा ” और लिखा गया “आखिरकार एक और आरोपी वो भी बिहार का ही है। जियो बिहार के लल्ला।”
आखिर इस खबर के माध्यम से क्या सिद्ध करना चाहता है जागरण की जितने भी बिहारी है बलात्कारी है .भोपाल ,छत्तीसगढ़ ,राजेस्थान ,आसाम ,उत्तेर प्रदेश सहित पुरे देश में ऐसी घटनाये होती है ?तो क्या सब अपराधी बिहार के है एक मित्र लिखते है बिहारिओ को बहार निकलने पर पास देकर भेजा जाना चाहिए क्या ये हास्यास्पद नहीं है . बिहार कभी देश की सांस्कृतिक राजधानी हुआ करती थी गौतम बुद्ध,महावीर ,बाल्मीकि जैसे विद्वानों की धरती है चाणक्य की कर्म स्थली रही है बिहार क्या किसी एक के कु कृत के लिए पुरे बिहार को बदनाम करना जायज है .और तो और पूरी घटना के बाद सोशल मीडिया फेसबुक और ट्विटर पर जैसे बिहार को बदनाम करने की साजिश ही रच डाली गई है पुरे प्रकरण में मामला यही नहीं थमता गुडिया के गुनाह गार मनोज के परिवार वालो का पंचायत ने हुक्का पानी बंद कर दिया है और बड़े शान मीडिया के सामने इस बात को गाँव के मुखिया स्वीकार कर रहे है क्या लोकतान्त्रिक देश किसी गुनाहगार के परिवार वालो को सजा देने का अधिकार है हमारे एक मित्र कहते है अच्छा फैसला है आने वाले समय में इसका अच्छा परिणाम निकलेगा खुद को सभ्य समाज का मानने वाले लोग इस को जायज बताने में लगे है जबकि ये वही लोग है जब लडकियो के मोबाइल रखने पर पाबन्दी लगाई जाती है तो हंगामा खड़ा कर देते है और कहते है मानवाधिकार का हनन है तालिबानी फरमान है और ना जाने क्या क्या आखिर किसी एक के गुनाह के लिए उसके परिवार को सजा कैसे दी जा सकती है या पुरे बिहारी समाज को कैसे बदनाम किया जा सकता है ये तो वही कहावत हो गई की “करे कोई और भरे कोई ” आप जागरण जंक्शन के सुधि पाठक ही फैसला करे क्या मनोज और प्रदीप के गुनाह के लिए पुरे परिवार और बिहार को सजा दिया जाना न्याय सांगत है .

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

mrityunjay prasad mishra के द्वारा
April 22, 2013

क्यों किसी छोटे से स्थान से निकला व्यक्ति जब राष्ट्रीय महत्व को प्राप्त हो जाता है तो उसकी जन्मभूमि भी गौरवान्वित हो जाती है ? अच्छे और बुरे हर जगह होते है , इस मुद्दे को प्रांतीय अस्मिता से जोड़ना ठीक नहीं |

    jagojagobharat के द्वारा
    April 25, 2013

    मृतुन्जय जी बहुत बहुत धन्यवाद सटीक और सुन्दर प्रतिकिर्या के लिए


topic of the week



latest from jagran