RAJESH _ REPORTER

अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल अब तो हाथों में कोई तेज कटारी रखिये

170 Posts

347 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2623 postid : 567638

मिड डे मौत ?

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मिड डे मौत ?
बिहार के छपरा जिले के मसरख प्रखंड  में मिड डे मिल खाने से २० से अधिक बच्चो की मौत हो गई वही १०० से अधिक बच्चे जीवन और मौत से जूझ रहे है .नितीश कुमार ने बच्चो की मौत पर अफसोश जाता कर मुआवजे की घोषणा कर डाली लेकिन क्या मुआवजे से मृतक बच्चो के परिजनों का जख्म भर जायेगा .ऐसा नहीं है की बिहार में यह पहला मामला हो आये दिन ऐसे मामले सामने आते रहते है जहा भोजन करने के बाद बच्चे बीमार होते है लेकिन सरकार का ध्यान इस और कभी नहीं गया .योजना के नाम पर बड़े पैमाने पर लूट खसोट की बात भी सामने आता रहा है लेकिन करवाई के नाम पर नतीजा सिफर रहा है .मामले के सुरुअती जाच में भोजन में किट नाशक मिले रहने की बात सामने आ रही है आखिर कैसे मिला कीटनाशक ?किसने मिलाया खाने में जहर  ? क्या साजिश के तहत दी गई बच्चो को जहर या भूल वश गिर गया ऐसे कई सवाल है जिनकी जाच होनी चाहिए और दोषीओ को सख्त से सख्त सजा दी जानी  चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओ की पुनरावृति

बिहार के छपरा जिले के मसरख प्रखंड  में मिड डे मिल खाने से २० से अधिक बच्चो की मौत हो गई वही १०० से अधिक बच्चे जीवन और मौत से जूझ रहे है .नितीश कुमार ने बच्चो की मौत पर अफसोश जाता कर मुआवजे की घोषणा कर डाली लेकिन क्या मुआवजे से मृतक बच्चो के परिजनों का जख्म भर जायेगा .ऐसा नहीं है की बिहार में यह पहला मामला हो आये दिन ऐसे मामले सामने आते रहते है जहा भोजन करने के बाद बच्चे बीमार होते है लेकिन सरकार का ध्यान इस और कभी नहीं गया .योजना के नाम पर बड़े पैमाने पर लूट खसोट की बात भी सामने आता रहा है लेकिन करवाई के नाम पर नतीजा सिफर रहा है .मामले के सुरुअती जाच में भोजन में किट नाशक मिले रहने की बात सामने आ रही है आखिर कैसे मिला कीटनाशक ?किसने मिलाया खाने में जहर  ? क्या साजिश के तहत दी गई बच्चो को जहर या भूmid dayल वश गिर गया ऐसे कई सवाल है जिनकी जाच होनी चाहिए और दोषीओ को सख्त से सख्त सजा दी जानी  चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओ की पुनरावृति ना हो ?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ajaykr के द्वारा
July 17, 2013

मनरेगा और मिड डे मील ये दोनों ऐसी योजनायें हैं जिन्हें लेकर केंद्र और राज्य सरकारें ग्रामीणों की दशा बदलने और बच्चों के कुपोषण मुक्त होने के बड़े बड़े दावे करती हैं.. सच्चाई क्या है यह गाँव में बसने वाला हर नागरिक जानता है, रोज देखता है.. …हाँ इन योजनाओं के क्रियान्वयन से जुड़े हर आदमी (मसलन गाँवों के रोजगार सेवक, प्रधान, विकास अधिकारी, MDM प्रभारी अध्यापक, ADO, BDO आदि आदि..) का कुपोषण जरूर दूर हो रहा है और दशा का तो कायापलट है… बड़े अधिकारियों या जन प्रतिनिधियों के पास इन योजनाओं की असली दशा जानने, देखने या समझने की न तो कोई वज़ह है न ही फुर्सत.. और जाँज हुई भी तो कोई अपने ‘मौसेरे भाई’ लोगों पर कार्यवाही भला क्यों करेगा..?? अब अगर ऐसी व्यवस्था में आज बिहार में MDM खाकर बच्चों की हुई मौत जैसी दुखद घटनायें घटती भी हैं तो इनकी बला से, कहाँ इनके बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ना है जे यह खाने की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिये कोई प्रभावी कदम उठायेंगे, देखियेगा इस मामले में भी बावर्ची जैसे छोटे-मोटे कर्मचारियों की गलती निकाल कर, उन्हें बलि का बकरा बनाकर अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर लेंगे ये लोग..

    jagojagobharat के द्वारा
    July 18, 2013

    धन्यवाद अजय जी सटीक और सुन्दर प्रतिकिर्या देने के लिए


topic of the week



latest from jagran